यूपी गोपालक योजना

यूपी गोपालक योजना, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा समर्थित एक पहल है। राज्य के गोपालकों के लिए यह किसी जीवन रेखा से कम नहीं है। मूल रूप से, इस योजना का उद्देश्य उन पशुपालकों को ऋण प्रदान करना है, जो डेयरी फार्मों का संचालन करना चाहते हैं। यह योगी जी का ही नजरिया है कि हर किसी को सम्मानपूर्वक जीवन जीने का अवसर मिलना चाहिए।

इस योजना के तहत, उत्तर प्रदेश सरकार पशुपालकों के लिए बैंकों के माध्यम से 9 लाख रुपये तक के ऋण की सुविधा प्रदान करती है। यह योजना 10 से 20 गायों को पालने वाले पशुपालकों और कम से कम पांच जानवरों वाली गायों और भेड़ों का पालन-पोषण करने वाले पशुपालकों के लिए ही है। योगी जी यह सुनिश्चित करते हैं कि इस योजना का लाभ गोपालकों के व्यापक वर्ग तक पहुंच सके। हालांकि, समृद्धि की राह में थोड़े प्रयास की भी आवश्यकता होती है। इसलिए लाभार्थियों को ऋण देने से पहले 10 जानवरों के लिए 1.5 लाख रुपये की लागत वाले एक पशु शेड के निर्माण की उम्मीद योगी सरकार करती है। इस योजना का यह एक सराहनीय पहलू है जोकि सुनिश्चित करता है कि सरकार ही नहीं, बल्कि स्वयं वह व्यक्ति भी अपनी सफलता में निवेश करे।

यदि आप 5 पशु पालते हैं तो 1 लाख रुपये की सब्सिडी मिलेगी जबकि 10 पशुओं पर 2 लाख रुपये की सब्सिडी का प्रावधान है। यह सब्सिडी 5 साल में 20 हजार रुपये प्रति वर्ष और 40 हजार रुपये प्रति वर्ष की आसान किस्तों में मिलती है। यदि आप कारोबारी हैं तो 7.20 लाख रुपये का ऋण भी दिया जाएगा।

इस पहल की सुंदरता न केवल इसकी व्यावहारिकता में है, बल्कि इससे प्रकट होने वाली सहानुभूति में भी निहित है। योजना उन बेरोजगार युवाओं के संघर्ष को अवसरों में बदलती है, जो अपने और अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए कमाई के साधन तलाश रहे हैं। यूपी गोपालक योजना आशा की किरण है, जो पशुपालकों को आत्मनिर्भरता और सशक्तिकरण का मार्ग प्रदान करती है।

उत्तर प्रदेश गोपालक योजना के लाभ कई गुना हैं। यह राज्य के बेरोजगार युवाओं को डेयरी फार्मिंग के माध्यम से रोजगार का साधन प्रदान करती है। सरकार, इस योजना के माध्यम से, राज्य को प्रगति की ओर ले जाने की कल्पना करती है। यह योजना समग्र विकास और समावेशी विकास के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

यह पहल केवल ऋण प्रदान करने के बारे में नहीं है; यह गोपालकों द्वारा सामना किए जाने वाले संवेदनशील मुद्दों के बारे में है। यह योजना पशुपालकों को गाय या भैंस रखने का विकल्प भी देती है, हालांकि वे जानवर दूध देने वाले हों। जिससे स्पष्ट है कि पशुपालकों का एक व्यापक स्पेक्ट्रम इस योजना का लाभ उठा सकता है।

यूपी गोपालक योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए और उसके पास कम से कम पांच दूध देने वाले पशु होने चाहिए। साथ ही उनकी वार्षिक आय 1 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। पशु कल्याण और टिकाऊ डेयरी खेती के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता पर जोर देते हुए, इस योजना के तहत खरीदे गए जानवरों का स्वास्थ्य अच्छा होना चाहिए।

इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया बेहद सरल है। इच्छुक लाभार्थी आवेदन पत्र प्राप्त करने के लिए अपने निकटतम चिकित्सा अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। फॉर्म को पूरा करने और आवश्यक दस्तावेज संलग्न करने के बाद इसे पशु चिकित्सा अधिकारी के पास जमा करना होगा। इसके बाद आवेदन निदेशालय को भेजा जाता है, जहां इसका मूल्यांकन एक चयन समिति द्वारा किया जाता है, जिसमें सीडीओ अध्यक्ष, सीवीओ सचिव और नोडल अधिकारी शामिल होते हैं। जहां निर्णय लिया जाता है कि योजना का लाभ सबसे योग्य व्यक्तियों तक पहुंचे।

यूपी गोपालक योजना सिर्फ एक योजना नहीं है, यह आशा, सशक्तिकरण और प्रगति का प्रतीक है। उत्तर प्रदेश के पशुपालकों और बेरोजगार युवाओं के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का समर्पण सराहनीय है। योजना का विचारशील डिज़ाइन, व्यापक पात्रता मानदंड और सावधानीपूर्वक चयन प्रक्रिया अपने लोगों के जीवन में वास्तविक बदलाव लाने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है। जैसे-जैसे हम आगे बढ़ रहे हैं, आइए हम इस परिवर्तनकारी पहल का जश्न मनाएं और हमारे गोपालकों के जीवन पर इसके उल्लेखनीय प्रभाव को पहचानें, जो अब एक उज्जवल और अधिक समृद्ध भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं। अभी जाएं और इस सेवा का लाभ ज़रूर उठाएं|

टिप्पणी करें

( उ.  प्र.)  चुनावी  सर्वेक्षण  2022
close slider