कोई भी देश तभी प्रगति कर सकता है जब वहां का अन्नदाता आत्मनिर्भर व खुशहाल रहता है। इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 24 फरवरी वर्ष 2019 में प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के माध्यम से मोदी सरकार देश के किसानों को आर्थिक रूप से भूत बनाने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है, ताकि देश का अन्नदाता आसानी से जीवन यापन कर सके। भारत की अर्थव्यवस्था सबसे ज्यादा कृषि पर निर्भर करती है, ऐसे में देश का किसान जब तक संतुष्ट नहीं होगा, तब तक देश प्रगति नहीं कर सकता। इसी के चलते प्रधानमंत्री मोदी जी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना शुरू करने की घोषणा की थी। इस योजना के अंतर्गत किसानों को तीन सामान किस्तों में 2000 रुपए की मदद दी जाती है। इस आधार पर उपरोक्त योजना के अंतर्गत मोदी सरकार किसानों को वार्षिक तौर पर 6000 रुपए की आर्थिक मदद देती है। मोदी सरकार इस योजना की रकम को जल्द ही बढ़ाने वाली है, ताकि देश का किसान मजबूत बन सके। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत मोदी सरकार किसानों के खातों में 1 वर्ष के अंदर हर चार महीने के अंतराल पर डीबीटी के माध्यम से सीधे पैसा ट्रांसफर करती है। भारत जोकि एक कृषि प्रधान देश है और यहां पर 75% आबादी खेती के कार्यों में संलग्न है। ऐसे में देश के किसानों को बेहतर आजीविका प्रदान करने व आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना शुरू की गई, जिसके माध्यम से अब तक लाखों किसान लाभान्वित हो चुके हैं। किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार ने 20 हजार करोड़ का बजट आवंटित किया था। इस योजना के अंतर्गत केवल उन्हीं किसानों को वित्तीय सहायता प्राप्त होती है, जोकि वार्षिक तौर पर ई-केवाईसी और भूलेखों का सत्यापन करा रहे हैं। इसके साथ ही सभी शहरी व ग्रामीण भू-धारक किसान परिवारों को भी किसान सम्मान निधि योजना का लाभ प्राप्त हो सकता है, लेकिन परिवार का केवल एक ही सदस्य इस योजना के अंतर्गत आवेदन करके लाभ प्राप्त कर सकता है। भारत के स्थायी किसानों व 18 उम्र के किसानों को ही सम्मान निधि के अंतर्गत धनराशि प्राप्त हो रही है। किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों के पास आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र, बैंक खाता, मोबाइल नंबर और खतौनी की नकल अवश्य होनी चाहिए। किसान सम्मान निधि योजना के आवेदन करने के लिए आप नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। जहां आपको अपनी सारी जानकारियां सही तरीके से भरने के बाद जरूरी दस्तावेज अपलोड करने हैं और आप सरकारी दफ्तर के चक्कर काटे बिना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन करते समय किसानों को सबसे पहले राज्य के ग्रामीण व शहरी विकल्प का चयन करना होगा। उसके बाद आधार नंबर और मोबाइल नंबर डालकर ओटीपी का वेरिफिकेशन करना होगा। उसके बाद आपको अपनी बैंक खाता से जुड़ी सारी जानकारी सही-सही भरनी है और फिर अपने खेत व मांगे गए जरूरी दस्तावेजों की जानकारी भरकर पंजीकरण की प्रक्रिया को पूर्ण करना होगा। आपकी जानकारी का सत्यापन होने के बाद आपको किसान सम्मान निधि प्राप्त होने लगेगी। इस योजना के अंतर्गत उन किसानों को फायदा नहीं प्राप्त हो सकता, जोकि आयकरदाता है। साथ ही जो किसान दूसरों के स्वामित्व वाली भूमि पर खेती करके या फिर किराएदार किसान है, वह भी इस योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते, जबकि 2 हेक्टेयर तक भूमि व सीमांत किसानों को इस योजना का पूर्ण फायदा प्राप्त होता है। सरकार की इस योजना के माध्यम से जहां एक और किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी, तो वहीं दूसरी ओर कृषि क्षेत्र में बुनियादी संरचना को बढ़ावा मिलेगा। इस योजना के जरिए किसानों को कर्ज के बोझ से छुटकारा मिलेगा, किसान की कृषि उत्पादकता बढ़ेगी व देश के किसानों का जीवन स्तर उन्नत बनेगा। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप टोल फ्री नंबर 155261 या 1800115526 पर कॉल कर सकते हैं। इस प्रकार, प्रधानमंत्री मोदी जी की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना किसानों के जीवन में एक क्रांतिकारी बदलाव है, जिससे लाखों किसान आसानी से जीवनयापन कर रहे हैं।

टिप्पणी करें

© Copyright 2024 Lokpahal.org | Developed and Maintained By Fooracles

( उ.  प्र.)  चुनावी  सर्वेक्षण  2022
close slider