प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना

भारत के कर्म प्रधान सेवक और हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 23 सितंबर वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत की थी। प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना पीएम मोदी जी की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। इस योजना का प्रमुख उद्देश्य भारत की जरूरतमंद जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करना है। जिसके तहत देश के गरीब व कमजोर वर्ग के लोगों को अधिकृत सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज दिया जाता है। प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के नाम से भी जाना जाता है।

इस योजना के माध्यम से देश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने पर बल दिया गया है और स्वास्थ्य महकमे के बुनियादी ढांचे को विकसित किया जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों को आयुष्मान कार्ड दिया जाता है, जिसको दिखाकर आप किसी भी अस्पताल में मुफ्त और बेहतर उपचार प्राप्त कर सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की इस योजना का लाभ देश के करीब 50 करोड़ लोगों तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत करीब 1500 नई व पुरानी बीमारियों का इलाज कवर किया जाता है।

आयुष्मान भारत योजना का लाभ पाने के लिए आपके पास आधार कार्ड, राशन कार्ड, मोबाइल नंबर, निवास प्रमाण पत्र, पहचान पत्र आदि दस्तावेज अवश्य होने चाहिए। जिन लोगों को भी आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलता है, उन्हें किसी भी बीमारी से जुड़ा कोई भी खर्च जैसे दवाई, एम्बुलेंस, चेकअप, सर्जरी, अस्पताल जाने से पहले और अस्पताल जाने के बाद किसी भी प्रकार का कोई खर्च नहीं देना पड़ता है। पीएम मोदी द्वारा आयुष्मान भारत योजना का लाभ अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, दिहाड़ी मजदूरों, श्रमिकों, आदिवासी, दिव्यांगजनों आदि लोगों को विशेष तौर पर दिया जा रहा है।

इसके साथ ही जिन परिवारों की वार्षिक आय 2.5 लाख रुपए से कम है, जिन परिवारों में कमाने वाला कोई सदस्य नहीं है और भूमिहीन परिवार के सदस्य, कच्ची छत और कच्ची दीवार के मकान में रहने वाले परिवार, शारीरिक श्रम करने वाले मजदूर, निर्माण कार्य में लगे लोग, फेरीवाला, दुकानदार, परिवहन कर्मी स्वच्छता कार्यकर्ता, आशा वर्कर, हस्तशिल्प कारीगर, दर्जी, रिक्शा चालक, मरम्मत करने वाले, चौकीदार आदि को भी इस योजना के अंतर्गत मुफ्त इलाज की सुविधा मिलती है। शुरुआत में आयुष्मान भारत योजना का लाभ केवल उन लोगों को मिल रहा था जिनका नाम 2011 की आर्थिक व सामाजिक जनगणना में मौजूद है, लेकिन अब सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों की पात्रता को बदल दिया गया है, ताकि ज्यादा से ज्यादा परिवारों को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत मेडिकल कवर दिया जा सके।

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत अपनी पात्रता जानने के लिए आप https://beneficiary.nha.gov.in/ इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं, इस दौरान आपको इसमें पूछी गई सारी जानकारी भरकर ओटीपी डालना है, फिर क्या मैं पात्र हूं? बटन पर क्लिक करें, इसके बाद राज्य और शहर का चयन करके मोबाइल नंबर व राशन कार्ड नंबर डालकर अपनी पात्रता चेक करें। इसके बाद अगर आप आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत पात्र लाभार्थी है तो आपका आयुष्मान कार्ड आसानी से बन जाएगा।

मोदी सरकार की इस योजना के जरिए देश की गरीब जनता को मुफ्त इलाज की सुविधा मिल रही है और अच्छे से अच्छे अस्पताल में इलाज कराने के लिए अब गरीब और कमजोर वर्ग के लोगों को किसी प्रकार की कोई असुविधा नहीं हो रही है। पीएम मोदी की इस योजना का फायदा ना केवल शहरी बल्कि ग्रामीण लोगों को भी मिल रहा है, इस योजना के माध्यम से पेपरलैस और कैशलेस इलाज को बढ़ावा मिल रहा है। आयुष्मान भारत योजना मोदी सरकार की स्ववित्त पोषित योजना है, जिससे जनता को देश में बेहतर इलाज की सुविधा पाने के लिए आर्थिक परेशानियों का सामना ना करना पड़े।

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत मिलने वाले गोल्डन कार्ड में आपकी सारी जानकारी मौजूद होती है, इस कार्ड में आपको 14 अंकों का एक ABHA ID दी होती है, जिसमें आपके उपचार से जुड़ी समस्त जानकारी मौजूद होती है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत बनने वाले गोल्डन कार्ड को आप किसी भी अस्पताल में दिखाकर उपचार प्राप्त कर सकते हैं। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आप नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर भी आवेदन कर सकते हैं। आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी किसी भी प्रकार की जानकारी पाने के लिए आप टोल फ्री नंबर 14555/1800111565 पर कॉल करके भी इस योजना से जुड़ी समस्त आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी आप आयुष्मान भारत योजना के बारे में समस्त जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

टिप्पणी करें

( उ.  प्र.)  चुनावी  सर्वेक्षण  2022
close slider