उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल

“उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल” योगी आदित्यनाथ जी की सरकार की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इसे भूमि रिकॉर्ड को पारदर्शी और जनता के लिए सुलभ बनाने के लिए 2016 में लॉन्च किया गया था। यह इस लक्ष्य में सफल रहा है और अब राज्य में सभी के लिए एक मूल्यवान संसाधन है।

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल नागरिकों को भूमि रिकॉर्ड को ऑनलाइन एक्सेस करने और प्रमाणित करने की अनुमति देता है, जिससे स्वामित्व की जानकारी देखना और भू नक्शा डाउनलोड/प्रिंट करना आसान हो जाता है। यह डिजिटल पहल सुनिश्चित करती है कि राज्य के सभी निवासियों के लिए भूमि रिकॉर्ड आसानी से उपलब्ध हों।

इस पोर्टल का उपयोग करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। फिर अपना जिला, तहसील और गांव चुनें जहां आपकी जमीन है। अपनी जमीन का खसरा नंबर दर्ज करें। आपकी ज़मीन के आस-पास का क्षेत्र देखने में मदद के लिए एक नक्शा भी है। इसका उपयोग करके आप अपनी जमीन देख सकते हैं।

2023 में उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल बेहतर हुआ है। उन्होंने भूमि मानचित्रों में सुधार किया, जिससे वे आकार और भूमि उपयोग की जानकारी के साथ अधिक विस्तृत हो गए। खसरा-खतौनी अनुभाग में अब भूमि मालिकों, पते और भूमि की कीमतों के बारे में जानकारी है, जिससे स्वामित्व और भूमि मूल्य की पुष्टि करना आसान हो गया है। उन्होंने ऑनलाइन भुगतान भी जोड़ा, जिससे आप भूमि दस्तावेजों के लिए ऑनलाइन शुल्क का भुगतान कर सकते हैं, जिससे समय और कागजी कार्रवाई की बचत होगी।

भूमि सुधार के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता विभिन्न घोषणाओं और कार्यों में स्पष्ट है।

मई 2023 में, सरकार ने ग्रेटर नोएडा में 530 किसानों को भूखंड आवंटित करने की अपनी योजना की घोषणा की, जिसका उद्देश्य उन लोगों के लिए आवास समाधान प्रदान करना था, जिन्हें प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत जमीन मिली थी, लेकिन घर बनाने में असमर्थ थे। यह पहल आवास आवश्यकताओं को संबोधित करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता के प्रमाण के रूप में कार्य करती है।

जून 2023 में उत्तर प्रदेश भूलेख समाधान पोर्टल का शुभारंभ हुआ, जो भूमि विवादों के समाधान की सुविधा के लिए एक मंच है। यह उपयोगकर्ता-अनुकूल पोर्टल व्यक्तियों को शिकायत दर्ज करने, अपने मामलों की प्रगति को ट्रैक करने और अपने भूमि-संबंधित मामलों की स्थिति पर अपडेट रहने की अनुमति देता है।

जुलाई 2023 में, सरकार ने अपने भूमि रिकॉर्ड को डिजिटल बनाने के इच्छुक किसानों के लिए अपने समर्थन की घोषणा की। वित्तीय सहायता के रूप में पहले दो वर्षों के लिए ब्याज मुक्त ऋण की पेशकश की गई, जिससे कागजी रिकॉर्ड को डिजिटल प्रारूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया सरल हो गई।

पारदर्शिता और दक्षता के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता अगस्त 2023 में उत्तर प्रदेश भूलेख ऐप की शुरुआत के साथ और अधिक प्रदर्शित हुई। यह मोबाइल एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं को अपने भूमि रिकॉर्ड तक पहुंचने की अनुमति देता है और भूमि रिकॉर्ड उत्परिवर्तन को ट्रैक करने और भूमि द्वारा सुरक्षित ऋण के लिए आवेदन करने जैसी सुविधाएं प्रदान करता है।

ये विकास और पहल, भूमि प्रशासन को सुव्यवस्थित करने, पारदर्शिता बढ़ाने और भूमि मालिकों और किसानों को सहायता प्रदान करने की सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हैं। उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल लगातार विकसित हो रहा है, जो भविष्य में और भी अधिक लाभ का वादा करता है।

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल आज इस बात का प्रमाण है कि जटिल प्रक्रियाओं को सरल बनाने और पारदर्शिता बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी और शासन कैसे सामंजस्य के साथ काम कर सकते हैं। जैसे-जैसे यह विकसित हो रहा है और लोगों की जरूरतों को पूरा कर रहा है, यह उन संभावनाओं का एक उदाहरण बनता जा रहा है जो तब पैदा होती हैं जब नवाचार सार्वजनिक सेवा से मिलता है। उत्तर प्रदेश में भूमि प्रशासन का भविष्य इससे अधिक आशाजनक कभी नहीं रहा है। योगी जी की सरकार की यह पहल एक सराहनीय व महत्वपूर्ण कार्य है।

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल का लाभ लेने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें।

टिप्पणी करें

( उ.  प्र.)  चुनावी  सर्वेक्षण  2022
close slider