Menu

खेतीबाड़ी किसान और आत्मनिर्भरता

1921 में प्रेमचंद ने 'पूस की रात' नाम से एक कहानी लिखी थी । 2010 में बॉलीवुड की फिल्म 'पीपली लाइव' का गाना: सखी, सैंया पैसा तो खूबई कमात है, महंगाई डायन खाए जात है। क्या इन

Read More

आजादी के 75 वर्ष और कृषि क्षेत्र के वास्तविक सुधार और उत्तर प्रदेश

आजादी के 75 वर्ष और कृषि क्षेत्र के वास्तविक सुधार और उत्तर प्रदेशउस नौजवान की "पेशानी" पर"रोजगार" की फ़िक्रकी बारीक रेखाएं मौजूद थीं।वह उन्हें "हल्का"अपने मुस्तकबिल को "भारी" करना चाहता था।वह "धान" की "फसल" में खपने के

Read More

© Copyright 2024 Lokpahal.org | Developed and Maintained By Fooracles

( उ.  प्र.)  चुनावी  सर्वेक्षण  2022
close slider